Friday, October 25, 2013

उस तत्व की खोज

रात भर तेज बारिश के बाद 
सुबह धुले -उजले पत्तों को देखना 
बड़ा सुखद होता है 
तब सोचता हूँ 
कि , पिछली बार 
जिन लाखों लोगों किया था 
संगम पर गंगा स्नान 
क्या इन पत्तों सा चमकता है 
उनका मन और विचार ?

पर्णहरित या क्लोरोफिल नामक जो तत्व
मौजूद है इन पत्तों में
बनाते हैं जीवन भर
भोजन वृक्ष के लिए
हममें वह कौनसा तत्व है
जो उकसाता है हमें
दूसरों का भोजन छीनने के लिए ?

2 comments:

  1. पिछली बार
    जिन लाखों लोगों किया था
    संगम पर गंगा स्नान
    क्या इन पत्तों सा चमकता है
    उनका मन और विचार ? …। उचित प्रश्न,पर अनुत्तरित . पाप क्या है - यदि जान लिया तो संगम मन ही होता है,सत्य-स्वीकार-परिवर्तन का जल ही शुद्धता देता है

    ReplyDelete
  2. bilkul sahi kaha sab man ke andr hota hai ,,man me paap nahi uske liy sangam jakar snan karne ki jarurt hi kahan padegi?

    ReplyDelete

पहले ईश्वर नामक प्राणी मरा

पहले मंगल पर पंहुचे फिर चाँद पर बड़े सा पुल राष्ट्र को समर्प्रित हुआ मन की बात का प्रसारण जारी रहा जमीन पर कुछ किसान मारे गये एक बच्ची भ...