Thursday, March 13, 2014

मुझ पर यह आरोप है

मुझ पर यह
आरोप है 
कि मैंने किया है उपहास 
उनके भगवान का |
यह आरोप 
मैने स्वीकार किया, 
पक्षपाती भगवान के लिए 
नही है कोई आदर 
मेरे मन में ....

2 comments:

  1. pakshpati bhagwaan ke liy aadar to dur unke astitw ko bhi nakar dena chaiye

    ReplyDelete

बहुत साधारण हूँ

जी , मैं नहीं हूँ किसी बड़े अख़बार का संपादक न ही कोई बड़ा कवि हूँ बहुत साधारण हूँ और बहुत खुश हूँ आईना रोज देखता हूँ ... कविता के नाम पर अ...