Thursday, March 13, 2014

मुझ पर यह आरोप है

मुझ पर यह
आरोप है 
कि मैंने किया है उपहास 
उनके भगवान का |
यह आरोप 
मैने स्वीकार किया, 
पक्षपाती भगवान के लिए 
नही है कोई आदर 
मेरे मन में ....

2 comments:

  1. pakshpati bhagwaan ke liy aadar to dur unke astitw ko bhi nakar dena chaiye

    ReplyDelete

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...