Tuesday, October 21, 2014

आओ पहाड़ों पर चलें

आओ पहाड़ों पर चलें
जहाँ बचे हुए हैं कुछ वृक्ष आज भी अपने दम पर
झरनों ने अभी दम नही तोड़ा
जीवन बाकी है अभी।
क्या पता मिल जाये कोई वन्य प्राणी टहलते हुए
जिन्हें हम जानवर कहते हैं अक्सर
और वे समझते हैं हमें इंसान
आओ , उन्हें बता दें हम अपने बारे में।

1 comment:

  1. choti si kawita me kai batein aapne kah di ,wriksh pahadon par bche hn apne dm pr ,,manushyon ne samtal maidan ke wriksh nst kar diye aur karte ja rhe hain ,,,,jise hm janwar kahte hain kya pta uske andr insaniyat ho ,,janwar to hm ho gye hain ,,,,pashuon ko hm bta den ki hm bhi tumhari trh hi hain ,,

    ReplyDelete

वक्त हम पर हँस रहा है

हादसों के इस दौर में जब हमें गंभीर होने की जरूरत है हम लगातर हँस रहे हैं ! हम किस पर हँस रहे हैं क्यों हंस रहे हैं किसी को नहीं पता दरअस...