Monday, July 14, 2014

मैं रोना नही चाहता

मैं रोना नही चाहता किसी के लिए
न फिलिस्तीनी बच्चों के लिए
न ही देश के किसानो के लिए
और न ही उन प्रेमी जोड़ियों के लिए
जिन्हें खाप पंचायतों ने दी है
सजाए मौत ,

प्रेम करने की जुर्म में 
मैं लड़ना चाहता हूँ
उनके लिए।

2 comments:

  1. वाह !!
    बहुत ही बढ़िया !!

    अनु

    ReplyDelete
  2. sahi baat hai rone ka kya mtlb ?isse unke balidan par koi asr nahi hone wala ,,,ladna hoga ,,skriy hona hoga ,,kuch karna hoga,,,krmthta me wiswas hai aapka ,,aap sch me badshah hain majduron ke

    ReplyDelete

हर बेवक्त और गैरज़रूरी मौत को देशहित में जोड़ दिया जायेगा !

मनपसंद सरकार पाने के बाद जिस तरह चढ़ता है सेंसेक्स ठीक उसी दर बढ़ रही हैं हत्याएं इस मुल्क में ! यह आधुनिक विज्ञान का युग है जब हम टीवी प...