Thursday, September 24, 2015

पता नहीं कितना बचा हूँ अब

मैं मिट रहा हूँ 
पल-पल
पता नहीं कितना बचा हूँ अब
कल रात ही मिटा दिया 
मैंने उन रातों को 
जो हमने गुजारी साथ-साथ
चाँद गवाह है
कि मैंने नहीं किया कोई फ़रेब तुम्हारे साथ
बस आ गया था अमावस हमारे बीच
जिसे तुमने मेरा धोखा समझा ||



4 comments:

  1. बेहद खूबसूरत नित्या जी

    ReplyDelete
  2. जिस रात का गवाह चाँद है उसे कोई कैसे मिटा सकता है।

    ReplyDelete
  3. जिस रात का गवाह चाँद है उसे कोई कैसे मिटा सकता है।

    ReplyDelete
  4. हौसला अफजाई के लिए आप सभी का शुक्रिया |

    ReplyDelete

इस नये इतिहास में हमारा स्थान कहाँ होगा

हक़ीकत की जमीन से कट कर हमने आभासी दुनिया में बसेरा बना लिया है हवा में दुर्गंध फैलता जा रहा है हमने सांसों का सौदा कर लिया है जमीन धस ...