Monday, April 4, 2016

तुम्हारी कविता

देर रात ...
सौंप दूंगा
तुम्हें,
तुम्हारी कविता |
अभी वो
सो रही है
मेरी डायरी में ....

No comments:

Post a Comment

खोजो

खोजो कि कुछ खो गया है पर खोजो यह मान कर कि सब कुछ खो गया है खोजो कि खो गई हैं हमारी संवेदनाएं बच्चों का बचपन खो गया है खोजो, कवित...