Monday, April 4, 2016

तुम्हारी कविता

देर रात ...
सौंप दूंगा
तुम्हें,
तुम्हारी कविता |
अभी वो
सो रही है
मेरी डायरी में ....

No comments:

Post a Comment

उसके हाथों में खून के धब्बे नहीं बचे हैं

उसके हाथों में खून के धब्बे नहीं बचे हैं किन्तु जले हुए इंसानी मांस की दुर्गन्ध आती है तमाम अपराधों में नामज़द अपराधी  उसकी मंडली में शामिल...