Sunday, March 14, 2010

जुगनुओं ने

जुगनुओं ने टिमटिमाना
कम कर दिया है
शेष बचे जंगलों में
और मेरे बच्चे
सहजकर रखने लगे हैं
जानवरों की तसवीरें
अपने बच्चों के लिए .

माँ ने उस "बरसाती कोट" को 
बेच दिया है -
जो बाबा ने दिया था उन्हें 
बारिश से बचने के लिए 
मेरे शहर से
 श्रावण  रूठ गया है .

नदियाँ थककर  चूर हैं 
रुक गयी  है 
एक जगह पर 
मैदान बनकर 
श्रावन में भी अब उन्हें 
प्यास लगती है .

भंवर को 
देखा नही कब से 
फूलों पर मचलते 
कुमुदनी अब शायद 
ग्रस्त है किसी "फ्लू " से .   

No comments:

Post a Comment

मुझमें सच को सच कहने का साहस बचा हुआ है अब तक

जस्टिस लोया की मौत की सनसनी वाली ख़बर को साझा नहीं किया सरकारी सेवा वाले प्रगतिशील और जनपक्षधारी किसी लेखक ने मैंने किया है ! इसका म...