Tuesday, March 16, 2010

कुछ नहीं बदलनेवाला

मायूस नहीं हूं मै
किन्तु जनता हूं , कि
यह सच है 
कि मेरे प्रयासों से 
कुछ नहीं बदलेगा 
किउंकि -
अब हमने 
सहने की आदत डाल ली है .


जिन पर कभी न बिकने की  मुहर थी 
वे भी अब बिकने लगे हैं 
वे नयन सुख चुके हैं अब 
जो कभी सजल थे .


मेरी सोच नकारात्मक लगे
शायद
किन्तु यह सच है
कि कुछ नहीं बदलनेवाला
सिर्फ प्रयासों से अब .

 नई आशाओं से मै करूँ
तुमसे यह आह्वान , कि
आओ बनाएं अब
वो लहर
जो रुके न किसी बाँध से
और तोड़ डाले कुंठा के चट्टानों  को 
यह लहर  प्रयासों का नही
परिणाम का लहर होगा
उम्मीद अब भी है तुमसे मुझे 
इसलिए मायूस नही हूं मैं .

2 comments:

  1. apki kalam se e badlega sab.......... u hav the power of pen:)

    ReplyDelete
  2. मायूस न हों सब बदलेगा .अराजकता में ही क्रांति के बीज भी छिपे होते हैं .


    delete word verification option. it serves no purpose .

    ReplyDelete

बुखार में बड़बड़ाना

1. पहाड़ से उतरते हुए   शीत लहर ने मेरे शरीर में प्रवेश किया और तापमान बढ़ गया शरीर का शरीर तप रहा है मेरा भीतर ठंड का अहसास  इस अहसास ...