Sunday, July 4, 2010

उनके कलम सूख गये थे .

बड़ी -बड़ी  कम्पनिओं का
आज देश में भरमार है
फिर भी लोग बेरोजगार है .

अनाज के गोदाम
भरे पड़े है
फिर भी
गरीब भूखा पड़ा है

अदालत भी है
जज भी है
किन्तु न्याय कोसों दूर है

सेना भी , पुलिस भी है
फिर भी भय
दिल में बैठा है

गली का नल
सूखा पड़ा है
बोतल में कैद
जल बाज़ार में है .

विद्यालय आज
शापिंग माल है
शिक्षक आज
दुकानदार है

रवि की तरह
कवि भी आज
मौसम समझ कर
बाहर झांकता है

किसान यहाँ
मर रहे हैं
मंत्री जी
क्रिकेट  खेल रहे हैं
उदास नैनों से धरती -
आकाश की ओर
देख रही है
चुनाव से पहले
पत्रकार सब
पैसे लेकर  बिक गये थे
चर्चा नेताजी की करते - करते
उनके कलम  सूख गये थे .

4 comments:

  1. I seem to be spreading this book around a lot today. But there is a child's book called "Half a World Away" by "Child's Play". It is about the world turning their back on the children in need, in "the land of the purple cloud". It gives hope because the other children in the world hear their cries and take action. Very powerful book written for children. You can find it on Amazon or follow the link on my blog, it will lead you there. Either way, it is one I think you would like and all children should read!

    ReplyDelete
  2. देश का यही हाल है ...!

    ReplyDelete
  3. जनाब ये अरस्तु का लोकलंत्र है। ये तो होना ही था।
    just write like that I hope your pen will not dry.
    Dr. Abhijeet joshi
    assistant professor
    Dept. Of Philosophy University of Hyderabad

    ReplyDelete

वक्त हम पर हँस रहा है

हादसों के इस दौर में जब हमें गंभीर होने की जरूरत है हम लगातर हँस रहे हैं ! हम किस पर हँस रहे हैं क्यों हंस रहे हैं किसी को नहीं पता दरअस...