Tuesday, November 2, 2010

आज़ाद भारत में

आज़ाद भारत में
घुम रहे हैं --
निर्भय होकर शैतान
चोहान -पवार - कलमाड़ी  जैसे
मार रहे मैदान .

भूख हड़ताल 
शुरू होगया
सुबह नाश्ते के बाद
समाप्त हो जायेगा यह
दोपहर भोजन के बाद .

अनाज सड़ रहा
गोदाम के बाहर
चूहों का हो गया राज
एफ. सी . आइ . के
अफसरों ने
यही किया महान काज .

4 comments:

  1. lovely presentation that reveals the truth of govt policy and politicians....

    ReplyDelete
  2. हमारे समय के पतनोन्‍मुखी वर्ग को नित्‍यानंद ने बखूबी पहचान लिया है..भले ही वे सीधे नाम लेकर इसे किसी व्‍यक्ति के प्रतीक में कह रहे हों पर यह किसी ना किसी प्रकार पूरी व्‍यवस्‍था पर उठाये गए सवाल हैं। यह कैसा समय है जहां शेरों को भेडि़यों से खौफजदा होकर जंगल छोड़ना पड़ रहा है। शेरों को अपनी आत्‍मशक्ति से भरोसा क्‍यों क्‍यों उठ गया है..यह चिंता भी कवि के चिंतन के दायरे में है।
    असमान वितरण से उपजी विडंबना पर भी नित्‍यानंद की दृष्टि है..एक ओर अनाज के भरे गोदाम और दूसरी ओर खाली पेट...यह महज संयोग नहीं है, षड़यंत्र है..कवि की दृष्टि मंझेगी तो भविष्‍य में इन पर्दों को भी उघाड़ेगी, ऐसा विश्‍वास शुरुआती तेवर देखकर किया जा सकता है। भाषा के स्‍तर पर आपकी कविता निरंतर परिपक्‍व हो और कथ्‍य में गहराई आपको जीवन के सत्‍यों से परिचित कराए...इस शुभकामना के साथ- कहा जा सकता है कि इन कविताओं में समय की गूंज है,हृदय की वेदना है।
    आपका ही
    मायामृग

    ReplyDelete
  3. आपके आशीर्वचन से मैं धन्य हुआ .

    ReplyDelete
  4. भारतीय वर्तमान को प्रदर्शित करने के के लिए बहुत -बहुत धन्याबाद...

    ReplyDelete

गवाही कौन दें

हत्या हर बार तलवार या बंदूक से नहीं होती हथियारों से जिस्म का खून होता है भावनाओं का क़त्ल फ़रेब से किया जाता है  और पशु फ़रेबी नहीं होता जान...