Friday, March 4, 2011

......मैंने मांग ली

आज फिर टूट कर गिरा 
एक सितारा जमीं पर 
कुछ ने ---
देखकर उसे मांग ली  कुछ मन्नतें 
और ---
मैंने मांग ली 
उस गिरते सितारे की खैरियत .

10 comments:

  1. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण कविता के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद शरद जी आपका .

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर और संवेदनशील..

    ReplyDelete
  4. कम शब्दों में बड़ी बात
    बहुत सुंदर
    आपको फॉलो भी कर लिया
    आप भी आएं...

    ReplyDelete
  5. Perspective Nityanand Bhai ... sahi hai! I am liking lots. Also, I loved the way you used "sitaara" instead of "taara": such meaningful double entendre so innocently introduced. Atta boy! :-)

    ReplyDelete
  6. Bahut hi bhavapoorn panktiyan hain Bandhuvar Nityanandji!! Sadhuvaad!!

    ReplyDelete

गवाही कौन दें

हत्या हर बार तलवार या बंदूक से नहीं होती हथियारों से जिस्म का खून होता है भावनाओं का क़त्ल फ़रेब से किया जाता है  और पशु फ़रेबी नहीं होता जान...