Thursday, March 10, 2011

तुम्हे मालूम है

तुम्हारी आँख का एक बूंद आंसू
गहरा सागर है
मेरे लिए
और तुम्हे मालूम है
मुझे डुबने से डर लगता है
क्योंकि मुझे --
तैरना नही आता /

5 comments:

  1. kyonki maine to hamesha chaha ki
    Ho har din suhana teri jindagi mein!
    Ho khushiyon ka aalam teri jindagi mein !
    veeranagi ki kahin na koi baat ho,
    Ho baaten baharon ki teri jindagi mein!!
    Satat likhate rahiye....................

    ReplyDelete
  2. ...तुम्‍हारी ऑंख का एक (बूँद) ऑंसू.....
    ............अरविंद जी ने बेहतर सुझाया....
    सार्थक यत्‍न...।

    ReplyDelete

हर बेवक्त और गैरज़रूरी मौत को देशहित में जोड़ दिया जायेगा !

मनपसंद सरकार पाने के बाद जिस तरह चढ़ता है सेंसेक्स ठीक उसी दर बढ़ रही हैं हत्याएं इस मुल्क में ! यह आधुनिक विज्ञान का युग है जब हम टीवी प...