Sunday, October 23, 2011

दरारें


दरारें बहुत घातक होती है
चाहे कहीं हो
दीवार में
या रिश्तों में
बालू -सीमेंट भर सकती हैं
दीवार की दरारें
किन्तु -
रिश्तों की दरारें
नही भरती किसी भी सीमेंट से
बचा के रखिये
रिश्तों को --
हर दरार से ...........

6 comments:

  1. सटीक कहा है ..सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. काफी समय बाद आपने कुछ लिखा ............ अच्छा लगा ........... धन्यवाद .

    ReplyDelete
  3. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 27-10 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ...

    ReplyDelete
  4. Very well said sir and its true...

    ReplyDelete
  5. "दरारें बहुत घातक होती है
    चाहे कहीं हो"
    बचा के रखिये
    रिश्तों को --
    हर दरार से ...........

    निःसंदेह अच्छी रचना

    ReplyDelete

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...