Tuesday, September 4, 2012

शिक्षक दिवस पर ..



8 comments:

  1. कल 05/09/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका यशवंत यश जी |

      Delete
  2. संभवतः शिक्षा के अधिकार से वंचित रहने में गुरुओं को दोष देना न्यायोचित नहीं होगा और एक गुरु के कृत्य को सभी में देखना भी ………रचना सुन्दर किन्तु भावना से असहमत………।

    ReplyDelete
    Replies
    1. कौशल जी , आभार आपका | विनम्र निवेदन है कि कविता को एक बार फिर से पढ़िए और कर्ण और एकलव्य जैसे पीड़ित छात्रों के पक्ष में सोचकर देखिये ......बिलकुल सभी शिक्षक एक जैसे नही होते ..न ही इस कविता में ऐसा कुछ कहा गया है | सादर

      Delete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर सामयिक रचना
    शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete

बुखार में बड़बड़ाना

1. पहाड़ से उतरते हुए   शीत लहर ने मेरे शरीर में प्रवेश किया और तापमान बढ़ गया शरीर का शरीर तप रहा है मेरा भीतर ठंड का अहसास  इस अहसास ...