Friday, August 31, 2012

कमाल हो तुम

बंदूक,
कुपोषण 
दंगे ,आगजनी 
नफ़रत 
इन सबके बीच रहकर भी 
तुम लिख लेते हो 
प्रेम कविता ....?
सच में कमाल हो तुम ....

1 comment:

  1. क्योकि इस सब मे अगर किसी की जरुरत है तो वो प्रेम ही तो है !!

    ReplyDelete

बुखार में बड़बड़ाना

1. पहाड़ से उतरते हुए   शीत लहर ने मेरे शरीर में प्रवेश किया और तापमान बढ़ गया शरीर का शरीर तप रहा है मेरा भीतर ठंड का अहसास  इस अहसास ...