Saturday, November 3, 2012

सम्पूर्ण पतन के बाद

वे सभी 
जो मूक हैं 
वक्त को बना कर जिम्मेदार 
छुपाया अपनी कमजोरी को 
और बने रहे चापलूस 

सम्पूर्ण पतन के बाद 
वे आयेंगे होश में 
खोलेंगे अपने द्वार 
लाशों पर चलकर आयेंगे 
एक दीपक जलाने को 
और बनेंगे जग के उद्धार ....?

4 comments:

  1. वाह...
    लाजवाब...सदा की तरह.

    अनु

    ReplyDelete
  2. भले जीवन में परिस्थितियां एक सी नहीं होती ..
    पर कर्मशील ही सफल होते हैं
    सुंदर अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  3. sabko gila bhi hai is vyavastha se,aur kisi ke sine me bgavat bhi nhi.

    ReplyDelete
  4. सुन्दर!! निशब्द....

    ReplyDelete

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...