Wednesday, May 30, 2018

बहुत वीरान समय है


बहुत वीरान समय है
और ऐसे में तुम भी नहीं हो यहाँ
राजा निरंकुश है
बहुत क्रूर है
और मैं लिखना चाहता हूँ
हमारी प्रेम कहानी
तुम कहो -
क्या लिखूं - अंत,
मिलन या मौत ?
राजा हमारी मौत चाहता है
और मैं चाहता हूँ मिलन !
राजा रूठे तो रूठे
तुम न रूठना कभी ...|

 31 May 2017 at 21:57 

No comments:

Post a Comment

इस पीड़ा का क्या करें

बीते दिनों में कोई कविता नहीं बनी लगता है दर्द में कुछ कमी रह गई पर बेचैनी कम कहाँ हुई है क्यों भर आती है आँखें अब भी  तुम्हारे दर्द में ...