Thursday, October 21, 2010

सब कुछ आम

इस देश में
सब कुछ आम
आदमी आम
लूट आम
भ्रष्ट्राचार आम 

केंद्र छोड़कर भागे वाम

विपक्षी कर रहे राम - राम 

कलमाड़ी खा रहा खुले आम - 

सरे आम
कांग्रेस कहती
मत लो नाम
गाँधी जी कहे हे राम.

No comments:

Post a Comment

मुझे सपने में देखना

जब तक मैं लौटा गहरी नींद आ चुकी थी तुम्हें तुम्हारे दिये  जंगली फूल की मीठी खुशबू से भर गया था मेरा कमरा तुम्हारी नींद में कोई ख़लल न ...