Saturday, October 30, 2010

आधुनिक दिवाली

दिवाली के मिठाइयों
अब मिलने लगा है  रंग
सब जानते हैं  फिर भी कोई होता नही दंग
खाकर वही  मिठाइयाँ
हो जाते सब मग्न

मिलावटी घी / तेल से
जलते हैं अब दीये
रात निकलकर देखो सब रहते हैं पिये

बच्चों का हाथ अब पहुँचता नही
बड़ों से चरणों तक
रुक जाता है आकर घुटनों तक

पंडित पड़ता नही मन्त्र
उनका काम करता है
सी . डी . प्लयेर नामक यंत्र
यही है त्योहार मानाने का आधुनिक तंत्र .

1 comment:

  1. मिलावटी घी / तेल से
    जलते हैं अब दीये
    रात निकलकर देखो सब रहते हैं पिये.....
    waah puja ka matlab yahi hai ...suder

    ReplyDelete

वक्त हम पर हँस रहा है

हादसों के इस दौर में जब हमें गंभीर होने की जरूरत है हम लगातर हँस रहे हैं ! हम किस पर हँस रहे हैं क्यों हंस रहे हैं किसी को नहीं पता दरअस...