Tuesday, January 11, 2011

नव वर्ष का पार्लियामेंट सांग-

आओ खेले
चोर -चोर
देश में  फैलाये  अँधेरा
घन घोर
करने दो जनता को शोर
विपक्ष को लगाने दो पूरा जोर
आओ खेलें  हम चोर - चोर .//

1 comment:

  1. भाई ,बचपन में हमलोग ..चोर पुलिस खेलते थे ..क्योकि उस समय पुलिस थी //
    मगर सही कहा आपने ..अब चोर चोर खेलने का वक़्त आ गया है /
    लाज़व्वाब

    ReplyDelete

बुखार में बड़बड़ाना

1. पहाड़ से उतरते हुए   शीत लहर ने मेरे शरीर में प्रवेश किया और तापमान बढ़ गया शरीर का शरीर तप रहा है मेरा भीतर ठंड का अहसास  इस अहसास ...