Tuesday, January 11, 2011

नव वर्ष का पार्लियामेंट सांग-

आओ खेले
चोर -चोर
देश में  फैलाये  अँधेरा
घन घोर
करने दो जनता को शोर
विपक्ष को लगाने दो पूरा जोर
आओ खेलें  हम चोर - चोर .//

1 comment:

  1. भाई ,बचपन में हमलोग ..चोर पुलिस खेलते थे ..क्योकि उस समय पुलिस थी //
    मगर सही कहा आपने ..अब चोर चोर खेलने का वक़्त आ गया है /
    लाज़व्वाब

    ReplyDelete

बहुत साधारण हूँ

जी , मैं नहीं हूँ किसी बड़े अख़बार का संपादक न ही कोई बड़ा कवि हूँ बहुत साधारण हूँ और बहुत खुश हूँ आईना रोज देखता हूँ ... कविता के नाम पर अ...