Sunday, July 1, 2012

नन्ही परी

तुम्हारी मीठी मुस्कान
रह जायेगी यादों में 
वक्त बीत जायेगा 
छोड़ जायेगी 
एक परत पलटने को 

तुम न बदलना 
वक्त के साथ 
नन्ही परी 

एक संजीवनी है 
तुम्हारी  इस मुस्कान में 
जी उठेंगे कई मूर्छित 
जो हार गए हैं 
जीवन की  रण भूमि पर ......



10 comments:

  1. बहुत सुन्दर...................

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अनु जी

      Delete
  2. भावमय करते शब्‍द ... बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सदा जी ......

      Delete
  3. very beautifully expressed...

    ReplyDelete
  4. bahut sundar tareeke se bitiya rani ke prati apni mamta purn bhavnayen udeli hain aapne,duniya ki saari betiyan apne paapa ki nanhi pari hi hoti hain shayad, meri bitiya bhi apne papa ki nanhi pari hai....... vakai jaadu hota hai in nanhi pariyon ke paas saare gam bhula dene ka apni maasoom si baaton aur harkaton se!

    ReplyDelete

बुखार में बड़बड़ाना

1. पहाड़ से उतरते हुए   शीत लहर ने मेरे शरीर में प्रवेश किया और तापमान बढ़ गया शरीर का शरीर तप रहा है मेरा भीतर ठंड का अहसास  इस अहसास ...