Sunday, July 8, 2012

सार्थकता जीवन की



तब होगी
मेरे जीने की सार्थकता
यदि उठा सकूं
आवाज़, तुम्हारे पक्ष में
तुम्हारे ह्क़ के जीत के लिए
वर्ना, व्यर्थ है
यह जीवन जीने के लिए |

सार्थक होगा
यह जीवन,यदि
कह सकूं मैं सच
बेवाकी से
जल्लाद के समक्ष
और मिट जाये
मौत का डर |

4 comments:

  1. पर ये डर मिट सके तब तो बात है ...
    अर्थ लिए बात ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा है आपने . शुक्रिया

      Delete

इस नये इतिहास में हमारा स्थान कहाँ होगा

हक़ीकत की जमीन से कट कर हमने आभासी दुनिया में बसेरा बना लिया है हवा में दुर्गंध फैलता जा रहा है हमने सांसों का सौदा कर लिया है जमीन धस ...