Monday, June 25, 2012

दरारें फिर भी रह जाएँगी

बुने थे सपने 
कुछ हसीं
सोचे बिना 
टूटने का अंजाम 

हर सप्न के साथ 
टूटा , हर बार 
आज बिखरा पड़ा हूँ 
टूटे सपनो के साथ 

सोचता हूँ
जोड़ लूं फिर से
हर टूटे हिस्से को
पर ...
दरारें फिर भी रह जाएँगी 

2 comments:

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...