Thursday, March 21, 2013

मैं मिला हूँ उस नदी से आज


एक नदी
जो निरंतर बहती है
हम सबके भीतर कहीं
वह नदी जिसने
देखा नही कभी कोई सूखा
वह नही जिसे प्यास नही लगी कभी
मैं मिला हूँ उस नदी से आज
अपने भीतर

यदि आप नही मिले
अपने भीतर बहते उस नदी से
देखा नही यदि उसकी धाराओं को
तब छोड़ दो उसे अकेला
उसकी लहरों के साथ उन्मुक्त
ताकी वह बहती रहे निरंतर
कभी मंद न पड़े लहरें उसकी
किसी हस्तक्षेप से

उसकी धाराओं में जीवन है
छोड़ दो उसे अकेला ,ताकि
हमारा अहंकार उसे सूखा न दें
निगल न लें उसे
ईर्ष्या की बाढ़
ऐसा होने पर
बह जायेगा सब कुछ
उस पानी में सड़ जायेगी इंसानियत
अशुद्ध हो जायेगा नदी का जल ....

11 comments:

  1. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति | बधाई |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत शुक्रिया आपका तुषार जी . सादर

      Delete
  2. vakai har insaan ke bhitar 'zameer', 'insaaniyat' ya kisi aur naam se bahne wali nadi hoti hi hai, par hum hi use apne swarth, irshya ya ahankaar jaise karno se kahin gum kar dete hain, saraswati ki tarah!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सुनीता जी . सादर

      Delete
  3. सुन्दर बहुत सुन्दर....
    टंकण त्रुटी- इर्षा को ईर्ष्या कर लें.

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया आपका अनु जी . सादर

      Delete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  6. उसकी धाराओं में जीवन है
    छोड़ दो उसे अकेला ,ताकि
    हमारा अहंकार उसे सूखा न दें
    निगल न लें उसे
    ईर्ष्या की बाढ़
    ... नदी को लेकर ऐसी सुंदर बात कविता में बहुत कम देखने को मिलती है भाई। बधाई।

    ReplyDelete
  7. nityanand ji ,
    ek baar phone kare. aapka number kho gaya hia ..
    vijay kumar
    hyderabad
    09849746500

    baithte hai ..

    ReplyDelete
  8. abhi es kavita mai aur kam karna chahiyae tha .kavita likhna sue kai nok par chlaenae kai barabar hai . kisan kitrah kavita kai liyae khpna padta hai .

    ReplyDelete

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...