Wednesday, April 26, 2017

कभी न माँगना मेरा अकेलापन

मैं एक यायावर हूँ
ठहराव नहीं,
राह चाहिए |
फिर भी 
कभी भूले से
यदि पहुँच जाऊं 
तुम्हारे शहर
तो मांग कर देखना कुछ
दे जाऊंगा सब कुछ |
केवल मुझसे
कभी न माँगना
मेरा अकेलापन,
मेरी उदासी
मैं  दे न सकूँगा |
-तुम्हारा कवि
तुम्हारे लिए
26 अप्रैल 2016

No comments:

Post a Comment

मुझे सपने में देखना

जब तक मैं लौटा गहरी नींद आ चुकी थी तुम्हें तुम्हारे दिये  जंगली फूल की मीठी खुशबू से भर गया था मेरा कमरा तुम्हारी नींद में कोई ख़लल न ...