Friday, November 24, 2017

तुमसे मिलने की जो आखिरी चाह थी मेरी

अंतिम जंग से पहले 
तुमसे मिलने की 
जो आखिरी चाह थी मेरी 
तुमने, 
उसे समाप्त कर दिया 
अच्छा किया तुमने
जो मुझे पहचानने से
इंकार कर दिया
मौत का जो डर था दिल में
इस तरह ख़त्म कर दिया !

No comments:

Post a Comment

इस पीड़ा का क्या करें

बीते दिनों में कोई कविता नहीं बनी लगता है दर्द में कुछ कमी रह गई पर बेचैनी कम कहाँ हुई है क्यों भर आती है आँखें अब भी  तुम्हारे दर्द में ...