Friday, March 23, 2012

भगत सिंह की याद में


हे महान वीर सपूतों
तुम्हारे लहू से
सिंची जमीं पर
उग आये हैं
नागफ़नी के पेड़

बेख़ौफ़ होकर
बढते गए
सोख कर नमी इस माटी की
देखो कैसे हँस रहे हैं
फैलाकर कांटे
चारो ओर

आज समय है घनघोर
उन्माद हंसी हंस रहे हैं
सभी महाचोर

शाहदत तुम्हारी
व्यर्थ न जाये
जीवन यूँही सूख न जाये
हर पल तुम्हारी याद आये
हे भगत महान
लौट आओ
एक नई
क्रांति का राह दिखलाओ

3 comments:

  1. bhavbhini shrddhanjili!!
    aapke shabdon ne jin arthon ko samahit kiya hua hai, vo kranti ki zameen ke banjar pan ki or ishara karte hain aur kantedhari ye naagfani vale mahachor kaun hai, kaun nahi janta?
    bhavpurn aur sateek kavita!!

    ReplyDelete
  2. आभार सुनितामोहन जी ,

    ReplyDelete
    Replies
    1. dhanyvaad! aapka blog bahut badhiya haiaur lokpriyta ki or badhta hua hai, aapke blog ki sadasya bankar achchha lag raha hai, ab jo bhi aap naya likhenge mujhe pata chal jayega aur mai uska raspaan kar sakungi!
      secondly thanks for joing my blog, aapko mail karna chaah rahi thi par net problem ke karan sambhav nahi ho paya.

      Delete

बुखार में बड़बड़ाना

1. पहाड़ से उतरते हुए   शीत लहर ने मेरे शरीर में प्रवेश किया और तापमान बढ़ गया शरीर का शरीर तप रहा है मेरा भीतर ठंड का अहसास  इस अहसास ...