Friday, March 30, 2012

उन्हें नहीं है रोटी की चिंता

उन्हें नहीं है 
रोटी की चिंता 
कोई आकर बना जाता है 

वे सिर्फ खाने में माहिर हैं 
बड़ी तबियत से खाते हैं 
पचा भी लेते हैं .....

वो जो आकर 
सेंक जाता है रोटियां 
उनके लिए
उन्हें वे
हरामखोर कहते है ..

4 comments:

  1. वो जो आकर
    सेंक जाता है रोटियां
    उनके लिए
    उन्हें वे
    हरामखोर कहते है ..सही है

    ReplyDelete
  2. बिल्‍कुल सच कहा है ...

    ReplyDelete
  3. सच कहा है......शब्द शब्द बाँध लेता है ...बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  4. आभार आप सभी का ..................

    ReplyDelete

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...