Friday, May 11, 2012

विनम्र होने पर अपने भी चीर देते हैं सीना .....

गंगा अभी
शांत है,
किन्तु गर्म है
धूप से |
नावे थके हुए
 मजदूरों की तरह
किनारे पर पड़ी हैं |

तापमान गिरने के साथ
गंगा की छाती पर
फिर करेंगे
ये सभी जलक्रीड़ा|

विनम्र होने पर
अपने भी चीर देते हैं सीना .....

 

2 comments:

  1. विनम्र होने पर
    अपने भी चीर देते हैं सीना .....

    ....बहुत गहन और सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  2. अपने ही चीरते हैं सीना

    ReplyDelete

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...