Sunday, August 22, 2010

किस काम का यह आदमी ?

चारो ओर आदमी
सिर्फ आदमी -ही- आदमी
किस काम का यह आदमी ?

रोता आदमी
हँसता आदमी
उन्माद आदमी
सिर्फ आदमी -ही - आदमी
किस काम का यह आदमी

डरा हुआ आदमी
टूटा हुआ आदमी
बेकार -बेरोजगार आदमी
किस काम का यह आदमी

क्रूर आदमी
भयानक आदमी
यांत्रिक आदमी
तांत्रिक आदमी
किस काम का यह आदमी

भ्रष्ट आदमी
नष्ट आदमी
लड़ता आदमी
लड़ाता आदमी 
जीता हुआ आदमी 
हारा हुआ आदमी 
मरता आदमी
बदनाम आदमी 
किस काम का यह आदमी ?

पैसा कमाता आदमी 
सोता हुआ आदमी 
ईर्ष्या से भरा हुआ आदमी 
किस काम का यह आदमी ?

बिकता आदमी 
बेचता आदमी 
बिका हुआ आदमी
व्यापारी आदमी 
किस काम का यह आदमी ?

भागता आदमी 
थका हुआ आदमी 
तपता आदमी 
जलता हुआ आदमी 
मुहं  के  बल पड़ा हुआ आदमी
पाला हुआ आदमी
किस काम का आदमी ?
हैरान आदमी
परेशान आदमी
किस काम का आदमी
मुझे म्याफ़ कर देना भाई आदमी .

4 comments:

  1. सडा अनाज मांगता आदमी,
    मुफ्त में न देता आदमी,
    ५ गुना वेतन मांगता आदमी,
    फिर भी नहीं संतुस्ट आदमी


    बहुत सुन्दर विचार है आपके ........आभार

    ReplyDelete
  2. अति उत्साहित है आदमी। प्रगतीशील है आदमी। आदमी को मारता आदमी। प्रकृति को सष्ट करता आदमी। खुद को सर्व श्रेष्ठ बताता आदमी। खुद को वीज़ी बताता आदमी सब ओर आदमी ही आदमी अतः बड़े काम का है आतमी यह ब्लॉग लिखने वाला भी है आतमी अतः बड़े काम का है आदमी

    ReplyDelete
  3. Bahut accha hai ye kavita.....U r going to be a great poet of Shining India .

    ReplyDelete

हर बेवक्त और गैरज़रूरी मौत को देशहित में जोड़ दिया जायेगा !

मनपसंद सरकार पाने के बाद जिस तरह चढ़ता है सेंसेक्स ठीक उसी दर बढ़ रही हैं हत्याएं इस मुल्क में ! यह आधुनिक विज्ञान का युग है जब हम टीवी प...