Thursday, April 7, 2011

काश पहले घटी होती यह घटना

हैरानी अब इस बात पर है 
कि तुम्हें सताने लगी हैं 
मेरी परेशानियाँ 
काश पहले घटी होती यह घटना 
तो --
शायद मैं इतना 
परेशान न होता आज इतना 
अब आलम यह है 
कि मैं कह नहीं सकता तुम्हे 
कि तुम --
मत हो परेशान इतना 
मेरी परेशानियों से 
क्योंकि --
अब यह परेशानियाँ 
सिर्फ मेरी है .//

3 comments:

  1. बहुत अच्छी रचना ...भावनाओं को सही रूप दिया है

    ReplyDelete
  2. यहॉं थोड़ा और ठहरना था....

    ReplyDelete
  3. आप सभी का तह दिल से धन्यवाद .

    ReplyDelete

वक्त हम पर हँस रहा है

हादसों के इस दौर में जब हमें गंभीर होने की जरूरत है हम लगातर हँस रहे हैं ! हम किस पर हँस रहे हैं क्यों हंस रहे हैं किसी को नहीं पता दरअस...