Monday, April 18, 2011

बिखरने लगी है

संजोकर रखा था 
जो यादें तुम्हारी 
मैंने अपने दिल में 
वे भी अब बिखरने लगी है 
मेरी तरह 
बार -बार उन्हें 
फिर से समेटने की  कोशिश करता हूँ 
पर टूटा हुआ आदमी 
कहाँ समेट पाता है कुछ ?

1 comment:

  1. पर टूटा हुआ आदमी
    कहाँ समेट पाता है कुछ ?
    uffff sach kaha aapne..bahut khoob.

    ReplyDelete

इस नये इतिहास में हमारा स्थान कहाँ होगा

हक़ीकत की जमीन से कट कर हमने आभासी दुनिया में बसेरा बना लिया है हवा में दुर्गंध फैलता जा रहा है हमने सांसों का सौदा कर लिया है जमीन धस ...