Monday, April 11, 2011

लिची का पेड़

लिची का पेड़ 
फिर भर गया है फूलों से 
रानी मधुमक्खी आ गई है 
अपनी सेना के साथ 
उनका रस चूसने
और सुंदरवन से 
आ गये हैं
मधु के व्यापारी 
लिची के पेड़ का 
दर-दाम करने 
किन्तु --
मासीमाँ ने मना कर दिया 
इस बार पेड़ बेचने से 
यह कहकर कि--
"आमादेर बडो खोका असछे एबार गरोमेर छुटीते" *
लिची जब पकेगा 
पूरा पेड़ लाल हो उठेगा 
रस भरी  लिचिओं के गुच्छों से //

*( हमारा बड़ा लड़का आ रहा है इसबार गर्मियों में )

2 comments:

  1. haan is baar sahi likhaa tumne. bas ek makkhiyon ka symbol thhoda unthought-out saa lagaa. Flies are part of nature's designs for spreading pollen; trees need honey bees. Flowers are fragrant and colorul to attract those fellers. vyaapaaris, on the other hand .... One other thing: "Yah kahkar ki" is not required really; just place a colon at the end of the previous line, and "yah kah kar ki" is understood. . Keep it tight, mate. Otherwise, this one really rocks. Good work. -- Rakesh.

    ReplyDelete

पहले ईश्वर नामक प्राणी मरा

पहले मंगल पर पंहुचे फिर चाँद पर बड़े सा पुल राष्ट्र को समर्प्रित हुआ मन की बात का प्रसारण जारी रहा जमीन पर कुछ किसान मारे गये एक बच्ची भ...