Thursday, April 7, 2011

विचलित नहीं हूँ मैं

इन काले बादलों के पीछे 
जो नीला आकाश है 
वह मेरा है 
जरा भी 
विचलित नहीं हूँ मैं 
इन काली घटाओं की भीड़ से 
हवा के एक झोंके की  
प्रतीक्षा है  मुझे .

9 comments:

  1. बहुत सुन्दर ..आशावादी दृष्टिकोण

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर सोच और उसकी अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  3. आप सभी का तह दिल से धन्यवाद .

    ReplyDelete
  4. ITS IS REALLY ULTIMATE way of life

    ReplyDelete
  5. bhaut achchha likhte hai aap....ati sundar

    ReplyDelete
  6. शुक्रिया आपका .

    ReplyDelete
  7. beautiful...lines...filling energy

    ReplyDelete

हर बेवक्त और गैरज़रूरी मौत को देशहित में जोड़ दिया जायेगा !

मनपसंद सरकार पाने के बाद जिस तरह चढ़ता है सेंसेक्स ठीक उसी दर बढ़ रही हैं हत्याएं इस मुल्क में ! यह आधुनिक विज्ञान का युग है जब हम टीवी प...