Friday, October 9, 2015

क्या तुझे शर्म नहीं आयी !

दनकौर में,
मादरे हिन्द की बेटी को 
नग्न किया गया 
उस रात फिर
खूब रोए 'नागा बाबा'
बाबा ने मुझसे कहा -
देख रे -बेरोजगार ग्रेजुएट
इसी देश में आया था बुद्ध भटककर
कबीर भी
और फिर आया था
फ़कीर संत गाँधी
आज सभी रोए रात भर
देखने वाले देखते रहे -बे-शर्म
और मैं देता रहा खुद को तस्सली
कि, अब नहीं रहा इस देश में
मेरी गालियाँ भी अब हो चुकी है बेअसर
चल तू बता -
क्या सच में नहीं बदल पाए इस देश को
जिसे - हिन्दोस्तान कहते हैं !
देख , आज भी मादरे हिन्द की बेटी असहाय नग्न घूम रही है
तेरी जमीन पर ....
हिल उठी है मेरी आत्मा
क्या तुझे शर्म नहीं आयी !
या डरता है मरने से !

___________

चित्र : गूगल  से  साभार 


No comments:

Post a Comment

खोजो

खोजो कि कुछ खो गया है पर खोजो यह मान कर कि सब कुछ खो गया है खोजो कि खो गई हैं हमारी संवेदनाएं बच्चों का बचपन खो गया है खोजो, कवित...