Thursday, October 15, 2015

तुम्हारी व्यथा की कहानी

तुम्हारी व्यथा की कहानी
मैंने रात भर
नदी को सुनाई,
नदी राह बदल कर
मेरी आँखों में
आ गयी ...
-सिर्फ तुम्हारा
एक कवि


No comments:

Post a Comment

वक्त हम पर हँस रहा है

हादसों के इस दौर में जब हमें गंभीर होने की जरूरत है हम लगातर हँस रहे हैं ! हम किस पर हँस रहे हैं क्यों हंस रहे हैं किसी को नहीं पता दरअस...