Tuesday, October 27, 2015

बेचैन थी नदी

नदी पार करते हुए
मैं सोच रहा था तुम्हें
बेचैन थी नदी
और उदास था मैं
उम्मीद है
तुम समझोगी वो अनकही
-तुम्हारा कवि ...
____________
चित्र : गूगल  से साभार 


1 comment:

उसके हाथों में खून के धब्बे नहीं बचे हैं

उसके हाथों में खून के धब्बे नहीं बचे हैं किन्तु जले हुए इंसानी मांस की दुर्गन्ध आती है तमाम अपराधों में नामज़द अपराधी  उसकी मंडली में शामिल...