Sunday, October 25, 2015

यूँ ही तुम्हें सोचते हुए

तुम्हारी आँखों की भाषा
पढ़ तो लेता हूँ
पर ,नहीं कर पाता मैं अनुवाद !
समझ न आये
तो, झाँक लेना तुम भी 
मेरी आँखों में कभी ........
यूँ ही तुम्हें सोचते हुए ........


No comments:

Post a Comment

वक्त हम पर हँस रहा है

हादसों के इस दौर में जब हमें गंभीर होने की जरूरत है हम लगातर हँस रहे हैं ! हम किस पर हँस रहे हैं क्यों हंस रहे हैं किसी को नहीं पता दरअस...