Sunday, October 25, 2015

यूँ ही तुम्हें सोचते हुए

तुम्हारी आँखों की भाषा
पढ़ तो लेता हूँ
पर ,नहीं कर पाता मैं अनुवाद !
समझ न आये
तो, झाँक लेना तुम भी 
मेरी आँखों में कभी ........
यूँ ही तुम्हें सोचते हुए ........


No comments:

Post a Comment

बुखार में बड़बड़ाना

1. पहाड़ से उतरते हुए   शीत लहर ने मेरे शरीर में प्रवेश किया और तापमान बढ़ गया शरीर का शरीर तप रहा है मेरा भीतर ठंड का अहसास  इस अहसास ...