Monday, October 19, 2015

तुम्हारी आँखों की उदासी अब मेरी आँखों में है

आज तुमसे विदा लेते वक्त
फिर भर आयीं मेरी आखें
तुम्हारे आने की ख़ुशी में भी
यही हाल था मेरा
मैं तुम्हारे लौटने की प्रतीक्षा करूँगा |
तुम्हारी आँखों की उदासी
अब मेरी आँखों में है ......

No comments:

Post a Comment

बुखार में बड़बड़ाना

1. पहाड़ से उतरते हुए   शीत लहर ने मेरे शरीर में प्रवेश किया और तापमान बढ़ गया शरीर का शरीर तप रहा है मेरा भीतर ठंड का अहसास  इस अहसास ...