Wednesday, September 22, 2010

बह रहे हैं उन्मुक्त होकर

घर के सामने एक  गड्ढा
गड्ढे में भरा है  बारिश का पानी
उस जमे हुए पानी में
बच्चे बहा रहे हैं
कागज़ के नाव
नाविक रहित  नाव
बह रहे हैं
उन्मुक्त होकर जमें हुए पानी में
हल्की ठंडी हवा के झोकों के साथ .

No comments:

Post a Comment

मैं मजाक का पात्र हूँ

जानता हूँ कि मैं मजाक का पात्र बन चुका हूँ इस समय सच कहने वाला हर शख्स  मज़ाक का पात्र है आपके लिए  हर भावुक व्यक्ति जो मेरी तरह बिना क...