Monday, April 23, 2012

यदि मिला कभी तुमसे ...

यदि मिला कभी तुमसे ....
सुनाऊंगा अपनी कहानी फुर्सत से
....अब तक जो बुना था
ओढ़ कर सोने दो मुझे

7 comments:

  1. फिर कभी होगी कोई बात
    अभी तो खुद से मिलने दो

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रशिम जी

      Delete
  2. Replies
    1. आभार दिगम्बर जी

      Delete
  3. क्या बात हैं ......

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सुनील जी ..स्वागत है मेरे ब्लॉग पर आपका

      Delete
  4. .अब तक जो बुना था
    ओढ़ कर सोने दो मुझे
    ....यूँ ही तो सपनों का ताना बाना नहीं बनता
    ..बहुत बढ़िया जज्बात..

    ReplyDelete

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...