Thursday, April 5, 2012

वरिष्ठ कला संपादक के .रविन्द्र जी द्वारा अलंकृत , मेरी एक रचना ...यह रचना संकेत -९ से ली गई है



7 comments:

  1. शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. बहुत ख़ूबसूरत, बधाई.

      Delete
  3. ati sundar! bhavpurn rachna.badhai

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद सुनीता मोहन जी .....

    ReplyDelete
  5. the cndition of city is like a woman

    ReplyDelete
  6. सच एक अनदेखा दर्द छुपा है शहर का ...

    ReplyDelete

मुझमें सच को सच कहने का साहस बचा हुआ है अब तक

जस्टिस लोया की मौत की सनसनी वाली ख़बर को साझा नहीं किया सरकारी सेवा वाले प्रगतिशील और जनपक्षधारी किसी लेखक ने मैंने किया है ! इसका म...