Thursday, April 5, 2012

वरिष्ठ कला संपादक के .रविन्द्र जी द्वारा अलंकृत , मेरी एक रचना ...यह रचना संकेत -९ से ली गई है



7 comments:

  1. शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. बहुत ख़ूबसूरत, बधाई.

      Delete
  3. ati sundar! bhavpurn rachna.badhai

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद सुनीता मोहन जी .....

    ReplyDelete
  5. the cndition of city is like a woman

    ReplyDelete
  6. सच एक अनदेखा दर्द छुपा है शहर का ...

    ReplyDelete

हर बेवक्त और गैरज़रूरी मौत को देशहित में जोड़ दिया जायेगा !

मनपसंद सरकार पाने के बाद जिस तरह चढ़ता है सेंसेक्स ठीक उसी दर बढ़ रही हैं हत्याएं इस मुल्क में ! यह आधुनिक विज्ञान का युग है जब हम टीवी प...