Saturday, April 21, 2012

नही करना चाहता खुद पर संदेह

हम दोनों के 
बीच की दूरी
यूँ ही बनी रहे 
अपनी सफाई देकर 
नही करना चाहता खुद पर संदेह
न ही करना चाहता हूँ 
तुम्हे शर्मिंदा ....

3 comments:

गवाही कौन दें

हत्या हर बार तलवार या बंदूक से नहीं होती हथियारों से जिस्म का खून होता है भावनाओं का क़त्ल फ़रेब से किया जाता है  और पशु फ़रेबी नहीं होता जान...