Friday, April 27, 2012

मेरी तन्हाई में साझेदार है

रात की तन्हाई
क्या बताऊँ तुम्हे
मेरी तन्हाई में
साझेदार है

उधर रात जागती  है मेरे लिए
इधर मैं ,
कहीं रात भी
बेवफा न समझ ले मुझे
उनकी तरह ..........

6 comments:

  1. बेहतरीन भाव संयोजन ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर अहसास...

    ReplyDelete
  3. वाह...............
    बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  4. इसे कहते हैं प्यार :)

    ReplyDelete
  5. बहुत शुक्रिया आप सभी का

    ReplyDelete

वक्त हम पर हँस रहा है

हादसों के इस दौर में जब हमें गंभीर होने की जरूरत है हम लगातर हँस रहे हैं ! हम किस पर हँस रहे हैं क्यों हंस रहे हैं किसी को नहीं पता दरअस...