Friday, April 27, 2012

मेरी तन्हाई में साझेदार है

रात की तन्हाई
क्या बताऊँ तुम्हे
मेरी तन्हाई में
साझेदार है

उधर रात जागती  है मेरे लिए
इधर मैं ,
कहीं रात भी
बेवफा न समझ ले मुझे
उनकी तरह ..........

6 comments:

  1. बेहतरीन भाव संयोजन ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर अहसास...

    ReplyDelete
  3. वाह...............
    बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  4. इसे कहते हैं प्यार :)

    ReplyDelete
  5. बहुत शुक्रिया आप सभी का

    ReplyDelete

खोजो

खोजो कि कुछ खो गया है पर खोजो यह मान कर कि सब कुछ खो गया है खोजो कि खो गई हैं हमारी संवेदनाएं बच्चों का बचपन खो गया है खोजो, कवित...