Friday, April 27, 2012

मेरी तन्हाई में साझेदार है

रात की तन्हाई
क्या बताऊँ तुम्हे
मेरी तन्हाई में
साझेदार है

उधर रात जागती  है मेरे लिए
इधर मैं ,
कहीं रात भी
बेवफा न समझ ले मुझे
उनकी तरह ..........

6 comments:

  1. बेहतरीन भाव संयोजन ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर अहसास...

    ReplyDelete
  3. वाह...............
    बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  4. इसे कहते हैं प्यार :)

    ReplyDelete
  5. बहुत शुक्रिया आप सभी का

    ReplyDelete

हर बेवक्त और गैरज़रूरी मौत को देशहित में जोड़ दिया जायेगा !

मनपसंद सरकार पाने के बाद जिस तरह चढ़ता है सेंसेक्स ठीक उसी दर बढ़ रही हैं हत्याएं इस मुल्क में ! यह आधुनिक विज्ञान का युग है जब हम टीवी प...