Monday, December 14, 2015

प्रेम ही खुद में सबसे बड़ी क्रांति है

ख़ुशी लिखना चाहता था 
लिख दिया तुम्हारा नाम 
लिखना चाहता था 'क्रांति' 
और मैंने 'प्रेम' लिख दिया 
सदियों से 
प्रेम ही खुद में सबसे बड़ी क्रांति है ..

No comments:

Post a Comment

मुझे सपने में देखना

जब तक मैं लौटा गहरी नींद आ चुकी थी तुम्हें तुम्हारे दिये  जंगली फूल की मीठी खुशबू से भर गया था मेरा कमरा तुम्हारी नींद में कोई ख़लल न ...