Thursday, December 7, 2017

हत्यारा इतना साहसी हो गया है

हत्यारा इतना साहसी हो गया है
कि वह ऐलान कर
हत्या कर रहा है अब
बतौर सबूत वह
हत्या का वीडियो बनाकर प्रसारित करता है !
सवाल है कि
उसे इतनी हिम्मत कहाँ से मिली कि
उसने सरेआम और फिर घर में घुसकर
दाभोलकर,
कलबुर्गी,पनसारे और लंकेश की हत्या की
उसने अकलाख, जुनैद और पहलू को मारा
फिर भी इस आधुनिक युग में पुलिस और अदालत को
क़ातिल का कोई सुराग नहीं मिला !
शासन ने ऐलान कर दिया
उसके रामराज्य में ऐसी कोई
वारदात नहीं हुई !


No comments:

Post a Comment

बहुत साधारण हूँ

जी , मैं नहीं हूँ किसी बड़े अख़बार का संपादक न ही कोई बड़ा कवि हूँ बहुत साधारण हूँ और बहुत खुश हूँ आईना रोज देखता हूँ ... कविता के नाम पर अ...