Saturday, October 3, 2009

बाज़ार से लायेंगे सांसें


मेरे देश में पीने को

पानी नही मिलता
किंतु
बिकता है यहाँ
पेप्सी और कोक
पानी बिकता है
बाज़ार में
किनले , बीबो और
बिसलेरी के नाम से
पानी कुदरत का है
किसने बेचा किसको
और
किसने ख़रीदा किससे
कौन पूछेगा ये सवाल किससे
आज पानी बिकता है
कल हवा बिकेगा
बाज़ार में

1 comment:

  1. haha ...hmm soch rahi hu ...hawa bekane ka kaam shuru kar du kya

    ReplyDelete

वक्त हम पर हँस रहा है

हादसों के इस दौर में जब हमें गंभीर होने की जरूरत है हम लगातर हँस रहे हैं ! हम किस पर हँस रहे हैं क्यों हंस रहे हैं किसी को नहीं पता दरअस...