Tuesday, October 27, 2009

वर्दी वालों की हवा

खाकी का डर

आज भी जारी है बदस्तूर

मरती हैं आज भी जनता सरेआम बेक़सूर ।

आज भी करते हैं उन्हें हम

जी हजूर - जी हजूर

आज है जनता मजबूर

पहले से अधिक ।

गोरों की गुलामी बेहतर थी

इस बदतर आज़ादी से

तब गुलामी का बहाना था

आज़ादी का क्या बहाना ?

वेरिफिकेशन , पासपोर्ट और सब

जो हैं उनके हाथों में

होता नही कुछ भी

विना रिश्वत के ।

धरती के देवता समझते ख़ुद को मेरे देश के

खाकी वाले ।

उन्हें आता है

जब कोई बेक़सूर असहाय होकर

मांगता है अपने प्राणों की भीख

उनके आगे हाथ जोड़कर ।

ले जाकर थाने उसे

करते हैं उसकी पिटाई

गुजरात , मुंबई और पूरा भारत

गवाह है

मेरे देश में वर्दी वालों की हवा है ।

1 comment:

मुझमें सच को सच कहने का साहस बचा हुआ है अब तक

जस्टिस लोया की मौत की सनसनी वाली ख़बर को साझा नहीं किया सरकारी सेवा वाले प्रगतिशील और जनपक्षधारी किसी लेखक ने मैंने किया है ! इसका म...