Thursday, February 16, 2012

हुसेन जीवित है ................



हुसेन जीवित है
ठीक पहले की तरह
हमारे दिलों में

अब बस
हिंदुस्तान की गलियों में
 नंगे पांव
उनका शरीर
 नही चलता

रोका गया
हुसेन को
चलने से
बतियाने से
तुलिका उठाने से
पर बाज़ीगर
कब मानते हैं ?

यह जो कुछ मुट्ठी भर
भारत भाग्य विधाता हैं
रास न आई उन्हें
मकबूल की परछाई
निकाल दिया
वतन से उन्हें
दे कर लोकतंत्र की दुहाई //

1 comment:

मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से चीख़ कर

मान लीजिये कि कभी आप चीख़ कर रोना चाहते हैं किन्तु रो नहीं सकते ! कैसा लगता है तब ? तकलीफ़ होती है न ? मेरा देश रोना चाहता है बहुत जोर से ...