Wednesday, February 29, 2012

लौटा पाओगे मुझे ..............


खो जाना चाहता हूं 
वसंत पवन में 
धूप में 
ज्योत्स्ना में 
पंछियों के मधुर सूर में .........
लौटा पाओगे  मुझे 
पृथ्वी का खोया हुआ यौवन ?

1 comment:

  1. आज की इस स्वार्थ भरी दुनिया में भाई-भाई का नहीं होता, लोग माँ-बाप के नहीं होते। उनसे क्या उम्मीदें की जाएँ जो अपनी माँ के नहीं हुए, वे धरती माँ के क्या होंगे!

    ReplyDelete

दिल्ली में बारिश और मध्य रात्रि

इस वक्त जम कर बरस रहा है मेघ जाने किस गम ने उसे सताया है वह किस दर्द में चीख़ रहा है ? गौर से सुनो वो हमारी कहानी सुना रहा है | ...