Wednesday, February 29, 2012

लौटा पाओगे मुझे ..............


खो जाना चाहता हूं 
वसंत पवन में 
धूप में 
ज्योत्स्ना में 
पंछियों के मधुर सूर में .........
लौटा पाओगे  मुझे 
पृथ्वी का खोया हुआ यौवन ?

1 comment:

  1. आज की इस स्वार्थ भरी दुनिया में भाई-भाई का नहीं होता, लोग माँ-बाप के नहीं होते। उनसे क्या उम्मीदें की जाएँ जो अपनी माँ के नहीं हुए, वे धरती माँ के क्या होंगे!

    ReplyDelete

बहुत साधारण हूँ

जी , मैं नहीं हूँ किसी बड़े अख़बार का संपादक न ही कोई बड़ा कवि हूँ बहुत साधारण हूँ और बहुत खुश हूँ आईना रोज देखता हूँ ... कविता के नाम पर अ...